Teacher without BEd
|

Teacher without BEd: ग्रेजुएट वालों के लिए खुशखबरी, अब बिना बीएड के भी बन सकेंगे अध्यापक देखें सम्पूर्ण जानकारी

Teacher without BEd: ग्रेजुएट वालों के लिए खुशखबरी, अब बिना बीएड के भी बन सकेंगे अध्यापक देखें सम्पूर्ण जानकारी। देश अथवा प्रदेश में शिक्षक बनने के अनेकों रास्ते हैं जोकि हर किसी की जानकारी में नहीं आ पाते हैं। ऐसा ही एक जबरदस्त तरीका हम आपके लिए लेकर आये जिसके माध्यम से बीएड वाले अथवा बिना बीएड के भी शिक्षक बना जा सकता है।

TGT Teacher Without BEd Degree

टीजीटी के माध्यम से शिक्षक बनने के लिए बीएड की जरूरत होती है। किन्तु क्या आपको पता है कि यदि आपके पास बीएड की डिग्री नहीं है फिर भी आप टीजीटी शिक्षक बन सकते हैं। जिस हाँ इसके लिए कुछ विशेष नियम व शर्तें हैं जिसके अनुसार बिना बीएड के भी अभ्यर्थी मास्टर बनने में सफलता प्राप्त कर सकते हैं।

बिना बीएड डिग्री के शिक्षक कैसे बनें

दोस्तों यदि आप उत्तर प्रदेश के निवासी हैं तो आपके लिए सुनहरा मौका है क्योंकि आपको बता दें कि यूपी में टीजीटी कला अध्यापक के लिए बीएड की कोई भी जरूरत नहीं होती है। अतः यदि आपको कला के क्षेत्र में रूचि हैं तो आप इसमें अपना करियर बना सकते हैं। इसके लिए अनिवार्य योग्यता का होना जरूरी है।

कला का टीजीटी टीचर बनने के लिए योग्यता

यदि आप कला का अध्यापक बनना चाहते हैं तो आपके लिए आगे की जानकारी बहुत ही महत्त्वपूर्ण होने वाली है। आपको बता दें कि कला का टीजीटी टीचर बनने के लिए आपके पास इंटरमीडिएट में Technical Drawing अर्थात प्राविधिक कला विषय होना चाहिए। इसके साथ ही इच्छुक अभ्यर्थियों के पास ग्रेजुएशन की डिग्री होनी चाहिए जोकि किसी भी स्ट्रीम से हो सकती है।

इसके साथ ही आपको बताते चलें की उम्मीदवार जो टीजीटी कला टीचर बनना चाहते हैं उनको राजकीय ड्राइंग और हैंडीक्रॉफ्ट सेंटर, इलाहाबाद का सर्टिफिकेट, बम्बई की इंटरमीडिएट ग्रेड ड्राइंग परीक्षा, कला भवन, शांति निकेतन का फाइन आर्ट डिप्लोमा, ड्राइंग या पेंटिंग के साथ बीए, बम्बई की थर्ड ग्रेड आर्ट्स स्कूल परीक्षा आदि पास होनी चाहिए। यह योग्यता हाई स्कूल में प्राविधिक कला होने के साथ ही मान्य होगी।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.