Super TET Shikshak Bharti: यूपी में अगले माह में आयेगी सुपर टेट शिक्षक भर्ती, नए आयोग ने गठित होते ही शासन को सौंपी रिपोर्ट

Super TET Shikshak Bharti: यूपी में अगले माह में आयेगी सुपर टेट शिक्षक भर्ती, नए आयोग ने गठित होते ही शासन को सौंपी रिपोर्ट। उत्तर प्रदेश सुपर टेट शिक्षक भर्ती के लिए प्रदेश में अभ्यर्थियों की सँख्या लाखों में है। जो पिछले 5 सालों से शिक्षक भर्ती का इंतजार कर रहे हैं। लेकिन अब यह इंतजार बहुत जल्द ही समाप्त होने वाला है। या यूँ कहें कि अगले महीने ही।

दरअसल 28 नवम्बर के बाद से नए आयोग को लेकर प्रक्रिया तेज हो गयी है। आपको पुनः बता देना चाहते हैं कि 28 नवंबर यूपी  कैबिनेट द्वारा नए आयोग की नियमावली को सहमति प्राप्त हुई थी। जिसके बाद से ही ऐसा देखने को मिल रहा है जिससे यह साफ़ हो जाता है कि बहुत जल्द ही नया आयोग शिक्षक भर्ती के साथ कार्यरत हो जायेगा।

अगले महीने नया आयोग निकलेगा सुपर टेट शिक्षक भर्ती

इससे पहले हमने आपको आयोग से सम्बंधित जो जानकारी प्रदान की थी उसमें बताया था कि नए आयोग के लिए मुख्यालय का चयन हो चुका है। जिसके लिए आगे की प्रक्रिया शुरू हो गयी है। यदि आपने वह पोस्ट नहीं पढ़ा तो अभी पढ़ें कि नए चयन आयोग का मुख्यालय कहाँ स्थापित किया जायेगा। इसके बारे में पूरी जानकारी प्रदान की गयी है।

इसके बाद अब एक और खबर आ चुकी है जिसमें आयोग द्वारा अगले एक से डेढ़ महीने के अंदर ही कार्यरत होकर प्रदेश की भर्तियाँ जारी करते हुए नियुक्ति प्रक्रिया शुरू की जाये। आपको बता दें पहले खबर आयी थी कि नए आयोग में अध्यक्ष तथा सदस्यों का चयन आवेदन प्रक्रिया के माध्यम से नियुक्ति की जाएगी।

इसके लिए शासन ने उत्तर प्रदेश उच्चतर शिक्षा सेवा आयोग (यूपीएचईएसी) एवं उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड में कार्यरत कर्मचारियों का ब्यौरा माँगा था। क्योंकि नए आयोग के लिए खाली पदों को भरने के लिए इन्ही दोनों बोर्ड के कर्मचारियों को समायोजित किया जायेगा। नए आयोग में नयी नियुक्ति के बजाय कार्यरत कर्मचारियों को कर दिया जायेगा।

नए आयोग के काम में ली जाएँगी उपयुक्त सम्पत्तियाँ

कर्मचारियों के समायोजन के साथ ही यह यह भी शासन द्वारा कहा गया है कि उत्तर प्रदेश उच्चतर शिक्षा सेवा आयोग (यूपीएचईएसी) एवं उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड में कुल सम्पत्तियों का ब्यौरा दिया जाये जिसमें कौन सी उपयोगी तथा कौन सी संपत्ति अनुपयोगी है। ताकि इन सम्पत्तियों को नए आयोग के लिए काम में लिया जा सके।

जैसा की पहले ही बताया जा चुका है कि यूपी माध्यमिक शिक्षा चयन बोर्ड तथा उच्चतर शिक्षा सेवा आयोग को नए आयोग में समाहित किया जायेगा इसको देखते हुए शासन द्वारा कर्मचारियों तथा संस्थानों की सम्पत्तियों को नए आयोग के लिए इस्तेमाल करने की योजना बनाये गयी है। इसके लिए मुख्यालय हस्तांतरित करने की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। यह नया आयोग डेढ़ महीने में पूरी तरह से अस्तित्व में आ जायेगा।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

x