UP News: यूपी के नए शिक्षा सेवा चयन आयोग के संचालन हेतु सरकार का आदेश, कैबिनेट की तरह बनेंगे नए नियम

up new education service selection commission: यूपी के नए शिक्षा सेवा चयन आयोग के संचालन हेतु सरकार का आदेश, कैबिनेट की तरह बनेंगे नए नियम। जैसा कि आप जानते है उत्तर प्रदेश राज्य में नए आयोग की स्थापना होने जा रही है। नए आयोग से अर्थ है उत्तर प्रदेश शिक्षा सेवा चयन आयोग जोकि उत्तर प्रदेश के माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड की बिल्डिंग में की जायेगी।

नए आयोग की नियमावली

हाल ही में नए योगी सरकार ने नए आयोग की नियमावली जारी कर दी है जिसमे सबसे महत्वपूर्ण बात यह निकल कर सामने आ रही है कि अब से हर हफ्ते मंगलवार के दिन उत्तर प्रदेश शिक्षा सेवा चयन आयोग की बैठक बुलाई जाएगी। अभी तक अपने देखा कि कैबिनेट में हर सप्ताह बैठक बुलाई जाती थी परंतु अब योगी सरकार ने फैसला लिया कि उत्तर प्रदेश के शिक्षा सेवा चयन आयोग भी हर हफ्ते मंगलवार को बैठक हुआ करेगी।

हर हफ्ते होगी बैठक

योगी सरकार ने नए शिक्षा सेवा चयन आयोग हेतु नियमावली जारी करते हुए कहा कि हर हफ्ते मंगलवार के दिन बैठक बुलाई जाएगी। यह भी कहा कि अगर किसी कारण मंगलवार को छुट्टी हो जाती है तो ठीक उसके अगले दिन यानी बुधवार को बैठक कराई जाएगी। साथ में यह भी स्पष्ट किया कि आवश्यकता पड़ने पर किसी भी दिन किसी भी समय इसकी बैठक बुलाई जा सकती है जिसकी सूचना 24 घंटे पहले सदस्यों को दे दी जाएगी।

24 घंटे पहले दी जाएगी सूचना

योगी सरकार ने यह भी स्पष्ट किया है कि हर बैठक की सूचना अध्यक्ष के अनुमोदन के बाद सचिव जारी करेंगे। यह सचिव का काम होगा की प्रत्येक बैठक से पहले उसकी कार्यसूची तैयार करके अध्यक्ष से अनुमोदित करवाए और हर सदस्य तक 24 घंटे से पहले सूचना प्रदान कर दे।

बैठक की अध्यक्षता

प्रत्येक बैठक की अध्यक्षता शिक्षा सेवा चयन आयोग के माननीय अध्यक्ष ही करेंगे। परंतु किसी भी कारण अगर बैठक वाले दिन अध्यक्ष अनुपस्थित हुए तो उस दिन बैठक की अध्यक्षता आयोग के जो वरिष्ठतम सदस्य होंगे वो करेंगे। साथ ही यह ध्यान रखना होगा कि जैसे ही आयोग के अध्यक्ष कार्यभार ग्रहण करेंगे उनके सामने उनकी अनुपस्थिति में लिए गए सारे निर्णय और कार्यवाई की रिपोर्ट प्रस्तुत करना होगा।

आयोग के सदस्य की वरिष्ठता तय होगी

सरकार ने यह निर्देश दिया है कि नए शिक्षा सेवा चयन आयोग के सदस्य की वरिष्ठता ज्येष्ठता क्रम के अनुसार तय किया जाएगा। अगर दो या दो से अधिक सदस्य एक ही दिन नियुक्त होते है तथा पद ग्रहण करते है तो भी वरिष्ठता क्रम के अनुसार ही उनका उच्चतर स्थान निश्चित किया जायेगा तथा बैठक का प्रत्येक निर्णय सबकी सम्मति से ही लिया जाएगा। मान लिया जाए कि सबकी सहसम्मति में भी मतभेद पाया जाता है तो बैठक में जितने भी उपस्थित सदस्य होंगे उनकी बहुमत से लिया जाएगा।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

x