BPSC Teacher and Studenst Update

1 अप्रैल से चयनित शिक्षकों के साथ सरकारी स्कूलों के बच्चों को सरकार देगी नयी सुविधा, कुछ नियमों ने बढ़ायी बच्चों की उत्सुकता

BPSC Teacher and Studenst Update: 1 अप्रैल से चयनित शिक्षकों के साथ सरकारी स्कूलों के बच्चों को सरकार देगी नयी सुविधा, कुछ नियमों ने बढ़ायी बच्चों की उत्सुकता। जैसा कि आपको पता होगा हाल ही में बिहार लोक सेवा आयोग द्वारा 2 चरणों में शिक्षक भर्ती संपन्न करायी गई है। उसके कुछ समय बाद ही बिहार राज्य सरकार जोकि दो पार्टियों की गठबंधन सरकार थी वह गिर गई और पूर्व सीएम नीतीश कुमार ने भाजपा के समर्थन से सरकार बनायी और पुनः सीएम बने।

इसके बाद बीपीएससी ने तीसरे चरण की शिक्षक भर्ती के लिए आवेदन आमंत्रित किया और भारती परीक्षा की तैयारी में लगा है। लेकिन इसी बीच बीएसपीसी में चयनित शिक्षकों तथा बिहार में पढ़ने वाले बच्चों को वहाँ की शिक्षा व्यवस्था को सुदृढ़ बनाने के लिए नया कदम उठाया जा रहा है। जिसका फ़ायदा अध्यापक के साथ साथ बच्चों व उनके अभिभावकों को भी होगा।

1 अप्रैल से लागू होंगे नए नियम मिलेगी यह सुविधाएँ

बिहार राज्य के सभी सरकारी स्कूलों चाहे वह प्राथमिक हो अथवा इंटर कॉलेज सभी 1 से 12 तक के स्कूलों में यह सुविधाएँ मुहैया करायी जायेंगी ऐसा सरकार का आदेश बीपीएससी को दिया जा चुका है। अब उस सुविधा की बात करें तो बताना चाहेंगे कि 1 अप्रैल से सभी स्कूलों में वहाँ के अध्यापकों के बैनर लगाए जाएँगे तथा बैनर पर सभी अध्यापकों की फोटो के साथ साथ उनका नाम तथा किस विषय के टीचर हैं यह भी जानकारी दी जायेगी।

इस सुविधा का फ़ायदा यह होगा कि उस स्कूल में पढ़ाने वाले अध्यापकों के बारे में बच्चों को तथा उनके अभिभावकों को पूरी जानकारी होगी कि कौन से मास्टर क्या पढ़ाते हैं। बच्चों को जागरूकता की ओर बढ़ाने का यह एक अच्छा तरीक़ा होगा। इससे अध्यापकों का भी सम्मान बढ़ेगा प्रत्येक टीचर को व्यक्तिगत रूप से सभी लोग जानेंगे तथा क्या पढ़ायेंगे यह भी पता होगा।

एक घंटे की विशेष कक्षा के साथ उपस्थिति अनिवार्य

शिक्षा व्यवस्था को सही करके शिक्षा स्तर को बढ़ाने पर काफ़ी ज़ोर दिया जा रहा है। नये बदलाव के साथ प्रतीक प्राथमिक, उच्च माध्यमिक, तथा इंटर कॉलेज में एक घंटे की विशेष कक्ष चलायी जायेगी। इसके साथ ही यह भी सूचना जारी हुई है कि प्रत्येक वर्ष शिक्षकों की उपस्थिति 100% होनी चाहिए वहीं बच्चों की कम से कम 75% उपस्थिति होनी चाहिए।

बिहार लोक सेवा आयोग के शिक्षकों के लिए समयानुसार उपस्थिति अनिवार्य है। बीपीएससी का कहना है कि शैक्षिक सत्र के दौरान बच्चों को पढ़ने का माहौल देकर भावी समस्याओं से निपटने में दक्ष बनाना है। इसीलिए स्कूलों में टीचर की फोटो के साथ बीपीएससी अध्यापक तथा पूरा शेड्यूल की भी जानकारी दी रहेगी। जिससे छात्र यह पता लगा सकें कि उनको कब क्या पढ़ाया जाएगा।

Similar Posts

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.