CTET Hindi Pedagogy 2023

CTET Hindi Pedagogy 2023: हिन्दी पेडागोजी के अति महत्त्वपूर्ण प्रश्न जो आपके लिए जानना है बेहद जरूरी

CTET Hindi Pedagogy 2023: केन्द्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा 2023 अब बहुत ही नजदीक आ चुकी है। ऐसे में तैयारियों का सिलसिला और तेज करने की जरूरत है। आज CTET Hindi Pedagogy 2023 पढ़ते समय कुछ महत्त्वपूर्ण प्रश्न जो मेरी समझ से साझा करना जरूरी था। इसलिए हम आपको उन सभी प्रश्नों को बताने वाले हैं।  हो सकता है अपने इन प्रश्नों की तैयारी कर ली हो। यदि आप इन्हे पढ़ चुके हैं तो कितने सही उत्तर आपके हुए कमेंट करें।

जनवरी 2024 को होने वाली परीक्षा के लिए सबसे आवश्यक है कि आप अपनी तयारी अच्छे से करते लें। और शिक्षण शास्त्र को जरूर तैयार करें। क्योंकि केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा में इनका बहुत अहम् योगदान होता है। अतः आपको जहाँ से भी मिले और  परीक्षा के लिए उपयोगी है तो उसे तुरंत तैयार कर लें।

CTET Hindi Pedagogy 2023 Questions

सीटेट परीक्षा में लगभग 50 फ़ीसदी प्रश्नो की संख्या पेडागोजी की होती है। इसलिए आपको बहुत ही समझ के साथ इस टॉपिक को तैयार करना चाहिए। आपसे जितना ज्यादा हो सके पिछले साल के प्रश्नो को हल करें तथा डेली प्रैक्टिस सेट हल करें। आगे बताये CTET Hindi Pedagogy 2023 प्रश्नों से आपको कितनी सहायता मिली कमेंट करके जरूर बताएं।

प्रश्न 1: आठवीं कक्षा के बच्चों के भाषा आकलन के लिए आप किसे सबसे कम महत्त्वपूर्ण मानते हैं ?

  • (A) किसी कहानी को नाटक में रूपान्तरित करना
  • (B) साहित्यिक समारोहों का आयोजन करना
  • (C) लिखित परीक्षाओं का आयोजन करना
  • (D) किसी विषय पर अपने विचार प्रकट करना

उतर: B

इसे भी देखें- सीटेट परीक्षा में शिक्षा मनोविज्ञान से आने वाले प्रश्नो का भाग- 1, 2, 3

प्रश्न 2: प्राथमिक स्तर पर कविता-शिक्षण उपयोगी नहीं होगा?

  • (A) जिसे छात्र सरलता से समझ सकें।
  • (B) जो कतिवताएँ छात्रों की सृजनशीलता को बढ़ाने वाली हो।
  • (C) जो कविताएँ अन्तर्राष्ट्रीय वादों से सम्बन्धित हों।
  • (D) जिनमें नीति, हास्य, वीरता, देशभक्ति जैसी भावनाएँ निहित हों।

उत्तर: C

प्रश्न 3: सतीश सातवीं कक्षा का विद्यार्थी है। वह निबन्ध लिखते समय कुँजी या गाइड से रटी हुई भाषा का प्रयोग करता है। इसके कारणों में सबसे कमजोर कारण हो सकता है?

  • (A) उसकी लिखित भाषा पर पकड़ नहीं है
  • (B) उसमें विचार करने का सामथ्र्य नहीं है
  • (C) सृजनात्मक लेखन की शिक्षण पद्धति उचित नहीं है
  • (D) उसकी मौखिक भाषा बेहद कमजोर है

उत्तर: D

प्रश्न 4: उच्च प्राथमिक स्तर पर भाषा सीखने-सिखाने की प्रक्रिया में ……. की उपेक्षा बिल्कुल नहीं की जा सकती।

  • (A) बच्चों की भाषिक पृष्ठभूमि
  • (B) शिक्षक के शास्त्रीय ज्ञान
  • (C) बच्चों के पाठ्य-पुस्तकीय ज्ञान
  • (D) बच्चों की सामाजिक श्रेणी

उत्तर: A

इसे भी पढ़ें- NEP 2020 नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति से आएंगे यह महत्त्वपूर्ण प्रश्न, तुरंत कर लो तैयार।

प्रश्न 5: निम्न में से किस सोपान के द्वारा बालक में भाषा का जन्म होता है ?

  • (A) जिज्ञासा
  • (B) अभ्यास
  • (C) अनुकरण
  • (D) उपर्युक्त सभी

उत्तर: A

प्रश्न 6: प्रत्यक्ष विधि के प्रवर्तक फ्रिज एवं पामेर को माना जाता है भारत देश में इसकी शुरुआत किस के प्रयासों से की गई?

  • (A) प्रो. युकिल, मुम्बई।
  • (B) प्रो. ट्विंकल, जबलपुर
  • (C) प्रो. बोकिल, कोलकाता
  • (D) प्रो. येटस, मद्रास

उत्तर: D

प्रश्न 7: प्राथमिक स्तर पर बच्चों की भाषा का आकलन करने का उद्देश्य है।

  • (A) उसकी पठन क्षमता का आकलन
  • (B) उसकी भाषा प्रयोग की क्षमता का आकलन
  • (C) उसकी लेखन क्षमता का आकलन
  • (D) उसकी बोलने की कुशलता का आकलन

उत्तर: B

इसे भी देखें- CTET 2023 में पर्यावरण के महत्त्वपूर्ण 20 प्रश्नों का संग्रह दिलाएगा अच्छे अंक, 10 का सही जवाब देके बताओ।

प्रश्न 8: हिंदी भाषा के मौखिक व्यवहार में, शब्दों के शुद्ध उच्चारण निर्भर करते हैं

  • (A) बोलने में बल पर
  • (B) बोलने के सुर पर
  • (C) बोलने के अनुमान पर
  • (D) उपर्युक्त सभी

उत्तर: D

प्रश्न 9: बालक का विकास होता है।

  • (A) सिर से पैर की ओर
  • (B) पैर से सिर की ओर
  • (C) दोनों ओर से
  • (D) इनमें से कोई नही

उत्तर: A

प्रश्न 10: लेखन कुशलता का विकास करने में सबसे कम महत्वपूर्ण है –

  • (A) आंखों देखी घटनाओं को लिखना
  • (B) प्रतिलिपि
  • (C) अधूरी कहानी को पूरा करना
  • (D) कहानी कविता आदि का सृजनात्मक लेखन

उत्तर: B

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.